Hindi Rap Lyrics - हिंदी रैप

 हिंदी रेप लिरिक्स


कैसे रोकूँ खुद को
मेरी वासनाए मुझ पे हावी
बन फकीर दुनिया से कट के बैठा 
मैं लकीर का फकीर बन के बैठा
सपने बुन के ख्वाब मैं जगाए बैठा 
धुंध मैं मचाये बैठा
मन का मैला बन के बैठा
खुद को सिर पे मैं चढ़ाए बैठा
लगता है कि युग बदल रहा है
 कलयुग है मुझ पे हावी
देख के गरीब को
मैं खुद की राह बदल जो बैठा
लगता है कि युग बदल रहा है 
कलयुग है मुझ पे हावी
लिखने बैठा शब्द जो छुपाए बैठा
 लगता है कि मैं बदल रहा हूं
मेरी वासनाएं मुझ पे हावी
जो बदल रहा है जग को
हमने उसकी टांग खींची
लगता है कि
मैं नहीं ये जग बदल रहा है 
क्योंकि कलयुग है हावी

- शायरी मेरे प्यार की


Hindi rap,हिंदी रेप लिरिक्स,karan negi

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Love Shayari | शायरी मेरे प्यार की | प्यार की शायरी |

Army Quotes | Indian Army Shayari | Jai Hind | देशभक्ति शायरी |

Gay Story in Hindi - गे स्टोरी

True love story | Hindi Story | love story |

Mirza Ghalib Poetry In Hindi - मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी

कबीर के दोहे | कबीर का जीवन परिचय | Kabir Biography | kabir das dohe |

Shin Chan Real Life Story - शिनचैन की असली कहानी

Sad Shayari | sad Shayari in hindi | दर्द भरी शायरी | शायरी मेरे प्यार की |

शायरी मेरे प्यार की | Hindi Love Shayari | Love Shayari |