पोस्ट

अप्रैल, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

जिस्म वाली शायरी - shayari urdu in hindi

चित्र
ADVERTISEMENT  शायरी उर्दू इन हिंदी
हजार जिस्मों को छू के भी यादें  बस उस एक शख्स की ही  रह जाती है 

Life Quotes in Hindi - शायरी मेरे प्यार की

चित्र
ADVERTISEMENT
ये इश्क बीमारी
होती ही ऐसी है
शिद्धत से करो  तो बेज्जती मिलेगी,
बेज्जती करो तो
सिद्धत तुम्हारी ।

Kadam Kadam Badhaye Ja

चित्र
क़दम-क़दम बढ़ाये जा ख़ुशी के गीत गाये जा ये ज़िंदगी है क़ौम की तू क़ौम पे लुटाये जा क़दम-क़दम बढ़ाये जा ख़ुशी के गीत गाये जा ये ज़िंदगी है क़ौम की तू क़ौम पे लुटाये जा तू शेर-ए-हिन्द आगे बढ़ मरने से फिर भी तू न डर उड़ा के दुश्मनों का सर जोश-ए-वतन बढ़ाये जा तू शेर-ए-हिन्द आगे बढ़ मरने से फिर भी तू न डर उड़ा के दुश्मनों का सर जोश-ए-वतन बढ़ाये जा क़दम-क़दम बढ़ाये जा ख़ुशी के गीत गाये जा ये ज़िंदगी है क़ौम की तू क़ौम पे लुटाये जा चलो दिल्ली पुकार के क़ौमी-निशाँ संभाल के लाल क़िले पे गाड़ के लहराये जा, लहराये जा चलो दिल्ली पुकार के क़ौमी-निशाँ संभाल के लाल क़िले पे गाड़ के लहराये जा, लहराये जा क़दम-क़दम बढ़ाये जा ख़ुशी के गीत गाये जा ये ज़िंदगी है क़ौम की तू क़ौम पे लुटाये जा क़दम-क़दम बढ़ाये जा ख़ुशी के गीत गाये जा ये ज़िंदगी है क़ौम की तू क़ौम पे लुटाये जा

Horror Story In Hindi - सच्ची घटना पर आधारित हॉरर स्टोरी

चित्र
ADVERTISEMENT
मसूरी की डरावनी रात -  सच्ची डरावनी कहानी

यह कहानी आरव की है और है और उसकी जिंदगी में घटी एक सच्ची घटना पर आधारित है। दिन के समय डर शायद ही किसी को लगता होगा मगर वीरान जंगल में सच्चाई कुछ और होती है। डर का एहसास हमें अकेले में होता है। बात देहरादून की है आरव अपने दोस्तों के साथ जॉर्ज एवरेस्ट घूमने गया था, वे अक्सर कहीं बाहर घूमने जाया करते थे , और उस दिन अमित का जन्मदिन था इसलिए आरव और उसके दोस्त अमित का जन्मदिन मनाने के लिए मसूरी गए थे ।  आते हुए शाम बहुत ज्यादा हो चुकी थी मगर कोई आने को तैयार न था सभी नशे में थे सभी ने पी रखी थी, आरव ने केवल बियर पी थी । जब वह वहां से देहरादून के लिए निकले तो रात के 10:00 बज गए थे और आरव की बाइक पर कोई नहीं बैठा था वह अकेला था । जब दोस्त निकले वह पेशाब करने में लग गया क्योंकि उसने ज्यादा बीयर पी रखी थी, दोस्त एक मोड़ आगे निकल गए  थे, वे हल्ला कर रहे थे और स्पीकर पर जोरो से गाने बजा रहे थे । किसी को होश तो था नहीं सारे नशे में थे, और आरव जब चलने लगा तो उसे लगा उसके पीछे कोई है उसने पीछे मुड़कर देखा तो वहां कोई भी नहीं था, उसने जल्दी स…