तिलाड़ी-कांड - विश्वम्भर दत्त चंदोला | Prerak Prasang |

नाम नहीं बताऊँगा 

'प्रेरक प्रसंग'

विश्वम्भर दत्त चंदोला,प्रेरक प्रसंग,एक प्रेरक प्रसंग,आज का प्रेरक प्रसंग,प्रेरक कहानी,प्रेरणादायक कहानी,मॉरल स्टोरी,prerak prasang,prerak prasang in hindi,prerak katha,prerak prasang hindi,hindi prerak prasang,prerak prasang hindi me,prerak kahaniya,prerak kathaye
तिलाड़ी-कांड
30 मई 1930 की बात है | रवाँई-जौनपुर के हजारों लोग तिलाड़ी के मैदान में एक सभा कर रहे थे | यह लोग राजा से जंगलों और गोेैचर भूमि पर अपने अधिकारों की मांग कर रहे थे | राजा के सैनिकों ने बिना उनकी बात सुने, हजारों निहत्थे लोगों पर गोलियां चला दी | पूरा मैदान लाशों के ढेर में बदल गया | यह घटना ' तिलाड़ी-काण्ड' के नाम से जानी जाती है |

इस घटना का समाचार रवाँई निवासी किसी संवाददाता ने उस समय के समाचार पत्र 'गढ़वाली' मे प्रकाशित करा दिया | समाचार पढ़कर जनता में मानो भूचाल आ गया | राजा और उसके कर्मचारी घबरा गए | पूरी टिहरी रियासत हिल उठी |

"गढ़वाली" के संपादक विश्वंभर दत्त चंदोला थे | राजा ने चंदोला जी से कहा, " उस संवाददाता का नाम बताओ और इस घटना के लिए माफी मांगो |"


चंदोला जी ने कहा, " संवाददाता का नाम नहीं बताऊंगा |" उन्होंने माफी मांगने से भी इनकार कर दिया | इस घटना के लिए मजिस्ट्रेट ने उन्हें एक वर्ष की कैद की सजा सुना दी | चंदोला जी ने कैद सहर्ष स्वीकार कर ली पर अपने आदर्शों से डिगे नहीं | वह जब तक जीवित रहे, पत्रकारिता से उत्तराखंड की सेवा करते रहे | उनका समाचार पत्र उत्तराखंड में स्वतंत्रता की आग को हवा देता रहा |


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Love Shayari | शायरी मेरे प्यार की | प्यार की शायरी |

Army Quotes | Indian Army Shayari | Jai Hind | देशभक्ति शायरी |

Gay Story in Hindi - गे स्टोरी

True love story | Hindi Story | love story |

Mirza Ghalib Poetry In Hindi - मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी

कबीर के दोहे | कबीर का जीवन परिचय | Kabir Biography | kabir das dohe |

Shin Chan Real Life Story - शिनचैन की असली कहानी

Sad Shayari | sad Shayari in hindi | दर्द भरी शायरी | शायरी मेरे प्यार की |

शायरी मेरे प्यार की | Hindi Love Shayari | Love Shayari |