Short Moral Story In Hindi - नैतिक कहानियां।


भीगी बिल्ली

short moral story in hindi,Prerak prasang, प्रेरक प्रसंग,motivational story in hindi,
उन दिनों भारत अंग्रेजों का गुलाम था। अंग्रेजों का भारतीयों से दुर्व्यवहार करना आम बात थी। लोग उनका विरोध करने का साहस नहीं करते थे। विरोध न करने के कारण अंग्रेजों का हौसला बढ़ा। अब वे महिला को परेशान करने पर उतर आए। वे कभी उनके बच्चे का कान उमेट देते। कभी उनके गाल पर चुटकी काटते। कभी महिला के बाल पकड़कर झटका देते।


स्वामी विवेकानंद उन दोनों अंग्रेजों की बातें सुन और समझ रहे थे। अगला स्टेशन आने पर महिला ने डिब्बे के दूसरी ओर बैठे पुलिस के एक भारतीय सिपाही से अंग्रेजों की शिकायत की सिपाही आया और अंग्रेजों को देख कर चला गया। अगले स्टेशन से ट्रेन चलनी शुरू हुई, तो अंग्रेजों ने फिर महिला और उसके बच्चे को तंग करना शुरू किया।

अब विवेकानंद से नहीं रहा गया। वे समझ गए थे कि ये ऐसे नहीं मानने वाले हैं। वे अपने स्थान से उठे, और दोनों अंग्रेजों के सामने जा खड़े हो गए। उनकी सुगठित काया को देखकर दोनों अंग्रेज सहम से गए। विवेकानंद ने पहले तो बारी-बारी उन दोनों की आंखों में झांका। फिर अपने दाएं हाथ की कुर्ती की आस्तीन ऊपर समेटी और हाथ मोड़कर उन्हें अपने बाजुओं की सुडौलऔर कसी हुई मांसपेशियां दिखाई। फिर वे आकर अपने स्थान पर बैठ गए।

अब अंग्रेजों ने तत्काल महिला व उसके बच्चे को परेशान करना बंद कर दिया। यही नहीं अगला स्टेशन आते ही वे भीगी बिल्ली की तरह चुपचाप उठे, और दूसरे डिब्बे में जाकर बैठ गए।


आप कमेंट बॉक्स के माध्यम से हमें बता सकते हैं कि आपको यह short moral story in hindi कैसी लगी । हमें उम्मीद है कि इस प्रेरणादायक कहानी के माध्यम से आपको कुछ सिखने को जरूर मिला होगा ।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Love Shayari | शायरी मेरे प्यार की | प्यार की शायरी |

Army Quotes | Indian Army Shayari | Jai Hind | देशभक्ति शायरी |

Gay Story in Hindi - गे स्टोरी

True love story | Hindi Story | love story |

Mirza Ghalib Poetry In Hindi - मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी

कबीर के दोहे | कबीर का जीवन परिचय | Kabir Biography | kabir das dohe |

Shin Chan Real Life Story - शिनचैन की असली कहानी

Sad Shayari | sad Shayari in hindi | दर्द भरी शायरी | शायरी मेरे प्यार की |