Navigation-Menus (Do Not Edit Here!)

प्रेरक प्रसंग - शैलेश मटियानी - प्रेरणादायक कहानी

अब लिखूँगा

Shailesh Matiyani,प्रेरक प्रसंग,एक प्रेरक प्रसंग,आज का प्रेरक प्रसंग,प्रेरक कहानी,प्रेरणादायक कहानी,मॉरल स्टोरी,prerak prasang,prerak prasang in hindi,prerak katha,prerak prasang hindi,hindi prerak prasang,prerak prasang hindi me,prerak kahaniya,prerak kathaye
शैलेश मटियानी
प्रेरक प्रसंग - शैलेश हाई स्कूल में पढ़ते थे | अल्मोड़ा में उनके चाचा की मांस की दुकान थी | शैलेश पढ़ाई भी करतीे और चाचा के साथ दुकान पर भी बैठते थे | दुकान पर वह बकरे की खाल उतारते | मांस काटते और उसका कीमा बनाकर बेचते थे | इसके साथ-साथ शैलेश कविताएं और कहानियां भी लिखा करते थे |


उनकी दुकान पर तरह-तरह के लोग आया करते थे | कुछ दिनों बाद लोगों को पता चला कि शैलेश कविताएं और कहानियां भी लिखते हैं | 

एक दिन किसी आदमी ने शैलेश को सुनाते हुए कहा, "बच्चे! मांस तो तुम बढ़िया कूट लेते हो | इतनी ही बढ़िया कोई कविता बना कर दिखाओ तो जानें |"

शैलेश को यह बात चुभ गई | वह घर आए और घंटों सोचते रहे | उन्होंने निश्चय किया - मैं खूब कहानियां और कविताएं लिखूंगा | मुझे अब साहित्यकार बनना है, और कुछ नहीं |
बालक शैलेश ने जीवन भर इस बात को निभाया | 
बाद में वे हिंदी के महान साहित्यकार बने | जिन्हें साहित्य जगत में शैलेश मटियानी के नाम से जाना जाता है |


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां