Mirza Ghalib Poetry In Hindi - मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी

Mirza Ghalib Poems 



mirza ghalib poems

na thaa kuchh to Khudaa thaa, kuchh na hotaa to Khudaa hotaa
Duboyaa mujh ko hone ne, na hotaa mai.n to kyaa hotaa

न था कुछ तो खुदा था, कुछ न होता तो खुदा होता
डुबोया मुझको होने ने, न होता में तो क्या होता?


huaa jab Gam se yuu.N behis to Gam kyaa sar ke kaTane kaa
na hotaa gar judaa tan se to zaa.Nno.n par dharaa hotaa

हुआ जब गम से यूं बेहिस तो गम क्या सर के कटने का
न होता गर जुदा तन से तो जानो: पर धरा होता



huii muddat ke 'Ghalib' mar gayaa par yaad aataa hai
wo har ek baat pe kahanaa ke yuu.N hotaa to kyaa hotaa.

हुई मुद्दत के ग़ालिब मर गया पर याद आता है,
वो हर एक बात पे कहना के यूं होता तो क्या होता।


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Love Shayari | शायरी मेरे प्यार की | प्यार की शायरी |

Army Quotes | Indian Army Shayari | Jai Hind | देशभक्ति शायरी |

Gay Story in Hindi - गे स्टोरी

True love story | Hindi Story | love story |

कबीर के दोहे | कबीर का जीवन परिचय | Kabir Biography | kabir das dohe |

Shin Chan Real Life Story - शिनचैन की असली कहानी

Sad Shayari | sad Shayari in hindi | दर्द भरी शायरी | शायरी मेरे प्यार की |