ads

PropellerAds

शायरी मेरे प्यार की | Hindi Shayari | Hindi poetry |

शायरी मेरे प्यार की Hindi Shayari 


hindi shayari, hindi poetry
hindi shayari

 

ये तेरे मेरे भाव ही तो हैं
जो हमको अलग बनाते हैं
तू भी लिखता, मैं भी लिखता
पर कोई कवि कोई शायर कहलाता
ये तेरे मेरे भाव ही तो हैं
जो हमको अलग बनाते हैं

Ye tere mere bhaav hee to hain
jo hamako alag banaate hain
too bhee likhataa, main bhee likhataa
par koii kavi koii shaayar kahalaataa
ye tere mere bhaav hee to hain
jo hamako alag banaate hain



रोने की वजह भी तुम हो
और हँसने की वजह भी तुम हो
तुम ही तो वो वजह हो
जो मेरे होने की वजह है

rone kee vajah bhee tum ho
aur hnsane kee vajah bhee tum ho
tum hee to vo vajah ho
jo mere hone kee vajah hai



यूँ  तुझसे बिछड़ना कभी सोचा न था
जो सोचा था उसमें बिछड़ना न था
तेरी विदाई को दूर से देखकर आया हूँ
कभी रोया न था पर आज रोकर आया हूँ
किसी को अपना हाल कभी बताया न था
पर आज जबरदस्ती सुना कर आया हूँ
कभी रोया ना था पर आज रोकर आया हूँ

yoon  tujhase bichhadnaa kabhee sochaa n thaa
jo sochaa thaa usamen bichhadnaa n thaa
teree vidaa_ii ko door se dekhakar aayaa hoon
kabhee royaa n thaa par aaj rokar aayaa hoon
kisee ko apanaa haal kabhee bataayaa n thaa
par aaj jabaradastee sunaa kar aayaa hoon
kabhee royaa naa thaa par aaj rokar aayaa hoon



क्यों मेरे प्यार को
यूँ नीलाम किया तुमने
क्यों
क्यों मेरे प्यार को बदनाम किया तुमने
क्यों
क्यों आखिर क्यों
अरे अगर तुम कहती
तो खुद ही मर जाते हम
क्यों भरे बाजार नीलम किया तुमने

kyon mere pyaar ko
yoon neelaam kiyaa tumane
kyon
kyon mere pyaar ko badanaam kiyaa tumane
kyon
kyon aakhir kyon
are agar tum kahatee
to khud hee mar jaate ham
kyon bhare baajaar neelam kiyaa tumane


खैर मैं गालिब तो नहीं
पर फिर भी लिख लेता हूँ
न तो मैं शायर सा दिखता हूँ
पर फिर भी मैं लिखता हूँ
कभी खुद की
तो कभी तेरी तारीफ लिखता हूँ
मैं गालिब तो नहीं
पर फिर भी लिख लेता हूँ
तेरी तारीफ गालिब ने बेशक
न की हो
तो क्या हुआ ये करन है ना
इसे ही अपना गालिब समझ ले


khair main gaalib to naheen
par fir bhee likh letaa hoon
n to main shaayar saa dikhataa hoon
par fir bhee main likhataa hoon
kabhee khud kee
to kabhee teree taareef likhataa hoon
main gaalib to naheen
par fir bhee likh letaa hoon
teree taareef gaalib ne beshak
n kee ho
to kyaa huaa ye karan hai naa
ise hee apanaa gaalib samajh le


 शायरी मेरे प्यार की


शायरी मेरे प्यार की | Hindi Shayari | Hindi poetry | शायरी मेरे प्यार की | Hindi Shayari | Hindi poetry | Reviewed by Karan Negi on मार्च 23, 2019 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.