ads

Hindi Shayari | हिंदी शायरी | शायरी मेरे प्यार की | Hindi Love Shayari |

Hindi Shayari  हिंदी शायरी and Love Quotes



हिंदी शायरी , Hindi shayari
Hindi shayari  हिंदी शायरी

तब से कलम में अपनी
खून की स्याही तो भर रहा हूँ
जो भी लिख रहा हूँ
गम ही लिख रहा हूँ

Tab se kalam men apanee
khoon kee syaahee to bhar rahaa hoon
jo bhee likh rahaa hoon
gam hee likh rahaa hoon


कौन थी तू
जो तूफान बनकर आयी थी
पता है
मुरझाये फूल फिर खिला नहीं करते

kaun thee too
jo toofaan banakar aayee thee
pataa hai
murajhaaye fool fir khilaa naheen karate


बारिश में खुद को भिगा लेता हूँ
कि कहीं कोई रोता न देख ले

baarish men khud ko bhigaa letaa hoon
ki kaheen koii rotaa n dekh le


बडा अजीब सा सफर है
जिसके लिए लिखूँ
वही बेखबर है

baḍaa ajeeb saa safar hai
jisake lie likhoon
vahee bekhabar hai


मैंने मेरे दर्द लिखे
तू कहे तो लिखना छोड़ दूँ
पर कैसे
कैसे मैं मेरा दर्द ना लिखूँ
कैसे मैं दर्द मेरा ना लिखूँ

mainne mere dard likhe
too kahe to likhanaa chhod doon
par kaise
kaise main meraa dard naa likhoon
kaise main dard meraa naa likhoon


मैं तो तजुर्बे लिखता हूँ
तजुर्बेदार ही कह लो

main to tajurbe likhataa hoon
tajurbedaar hee kah lo


कई बार कलम को मेरी
रोक लेता हूँ मैं
कि कहीं स्याही लहू न बन जाये
खुद को टोक लेता हूँ मैं

ka_ii baar kalam ko meree
rok letaa hoon main
ki kaheen syaahee lahoo n ban jaaye
khud ko ṭok letaa hoon main


इन दिनों
बडा खामोश सा रहता हूँ
इन दिनों
दुनिया से कट सा गया हूँ
इन दिनों
दर्द मेरा कागज पर उकेरता हूँ
इन दिनों
बडा खामोश सा रहता हूँ
इन दिनों
कागज ही दोस्त है
इन दिनों

in dinon
baḍaa khaamosh saa rahataa hoon
in dinon
duniyaa se kaṭ saa gayaa hoon
in dinon
dard meraa kaagaj par ukerataa hoon
in dinon
baḍaa khaamosh saa rahataa hoon
in dinon
kaagaj hee dost hai
in dinon












Hindi Shayari | हिंदी शायरी | शायरी मेरे प्यार की | Hindi Love Shayari | Hindi Shayari | हिंदी शायरी | शायरी मेरे प्यार की | Hindi Love Shayari | Reviewed by Karan Negi on मार्च 20, 2019 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.